Get all latest Chhattisgarh Hindi News in one Place. अगर आप छत्तीसगढ़ के सभी न्यूज़ को एक ही जगह पर पढ़ना चाहते है तो www.timesofchhattisgarh.com की वेबसाइट खोलिए.

समाचार लोड हो रहा है, कृपया प्रतीक्षा करें...
Disclaimer : timesofchhattisgarh.com का इस लेख के प्रकाशक के साथ ना कोई संबंध है और ना ही कोई समर्थन.
हमारे वेबसाइट पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है। किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं हैं।
BIG BREAKING : निलंबित IPS रजनेश सिंह को CAT से मिली राहत, बहाली करने का दिया आदेश

रायपुर। बीते ढाई साल से निलंबन झेल रहे IPS रजनेश सिंह को CENTRAL ADMINISTRATIVE TRIBUNAL कैट से बड़ी रहत मिली है। जबलपुर कैट ने उनका निलंबन खत्म करने के आदेश देते हुए दो माह के भीतर सभी लाभ देने के आदेश दिए हैं।

ईओडब्ल्यू के तत्कालीन एसपी रजनेश सिंह (IPS Rajnesh Singh) बीते ढाई साल से फोन टेपिंग सहित नान घोटाले में निलंबित हैं। अब कैट ने रजनेश का निलंबन एक वर्ष से अधिक होना औचित्यहीन कहते हुए निलंबन को निरस्त करने आदेश दिया है।

आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट जा सकती है सरकार

निलंबित आईपीएस रजनेश सिंह ने कैट में याचिका दायर की थी, जिस पर 16 नवम्बर को आदेश पारित हुए हैं। जानकारी मिली है कि कैट के आदेश की कॉपी मिलने के बाद विधिक सलाह लेकर शासन हाईकोर्ट जा सकती है।

यह था मामला

भाजपा के शासनकाल में एंटी करप्शन ब्यूरो और ईओडब्ल्यू ने प्रदेश में नान अफसरों सहित कर्मचारियों के 28 ठिकानों पर दबिश दी थी। जिसमे करोड़ों के भ्रष्टाचार से सम्बंधित दस्तावेज़ बरामद हुए थे। इस मामले में अफसरों के फोन टेपिंग और नान घोटाले में गड़बड़ी का आरोप प्रदेश के दो आईपीएस अधिकारियों मुकेश गुप्ता सहित नारायणपुर एसपी रजनेश सिंह पर लगा था। जिसके बाद तत्कालीन सरकार ने दोनों ही अधिकारी को निलंबित कर दिया था।

Hindi News के लिए जुड़ें हमारे साथ हमारे
फेसबुक, ट्विटरयूट्यूब, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, टेलीग्रामकू और वॉट्सएप, पर

The post BIG BREAKING : निलंबित IPS रजनेश सिंह को CAT से मिली राहत, बहाली करने का दिया आदेश appeared first on The Rural Press.

https://theruralpress.in/big-breaking-suspended-ips-rajnesh-singh-gets-relief-from-cat-orders-for-reinstatement/