Get all latest Chhattisgarh Hindi News in one Place. अगर आप छत्तीसगढ़ के सभी न्यूज़ को एक ही जगह पर पढ़ना चाहते है तो www.timesofchhattisgarh.com की वेबसाइट खोलिए.

समाचार लोड हो रहा है, कृपया प्रतीक्षा करें...
Disclaimer : timesofchhattisgarh.com का इस लेख के प्रकाशक के साथ ना कोई संबंध है और ना ही कोई समर्थन.
हमारे वेबसाइट पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है। किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं हैं।
CG में पुलिस कमिश्नरी: इंटेलिजेंस आईजी के साथ रायपुर के भी आईजी होंगे अजय यादव, आरिफ देहात के जिले देखेंगे

रायपुर। छत्तीसगढ़ में सीनियर आईपीएस अधिकारियों के तबादले के संबंध में चल रही अटकलों पर शुक्रवार की देर रात विराम लगा, लेकिन कुछ नई अटकलें शुरू हो गई हैं। अब चर्चा इस बात की है कि क्या पुलिस कमिश्नरी सिस्टम लागू करने की तैयारी है। दरअसल, आईजी इंटेलिजेंस के साथ-साथ अजय यादव को रायपुर रेंज का आईजी बनाया गया है। इसमें सिर्फ रायपुर जिले को शामिल किया गया है। रायपुर रेंज के बाकी जिले जिनमें बलौदाबाजार भाठापारा, महासमुंद, धमतरी और गरियाबंद हैं, उसके प्रभारी आईजी आरिफ शेख होंगे।

पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश में जब भोपाल और इंदौर में पुलिस कमिश्नरी सिस्टम की शुरुआत हुई थी, तब छत्तीसगढ़ से एक एडिशनल एसपी और एक डीएसपी को अध्ययन करने के लिए भेजा गया था। इस अध्ययन में यह बात सामने आई थी कि रायपुर जिले में पुलिस कमिश्नरी लागू कर सकते हैं, क्योंकि यहां की जनसंख्या अब 20 लाख पहुंच गई है। रायपुर जिले में एजेके और महिला थाना मिलाकर करीब 33 थाने होते हैं। इनमें गोबरा नवापारा, तिल्दा और खराेरा थाने की शहर से थोड़ी दूर पर हैं। इनमें भी खरोरा थाना की ओर तेजी से विकास हो रहा है। वैसे भी, पुलिस कमिश्नरी सिस्टम में देहात के थानों की व्यवस्था पुरानी होती है, जबकि शहरी लॉ एंड ऑर्डर और मजिस्ट्रेट का पॉवर पुलिस के पास होता है। 

इस तरह की भी चर्चा

वैसे, रायपुर रेंज के अंतर्गत चार जिलों को छोड़कर रायपुर के लिए अलग आईजी बनाने के संबंध में भी पिछले 6-8 महीने से एक चर्चा चल रही थी। पुलिस महकमे में एक विचार यह था कि राजधानी होने के कारण सिर्फ रायपुर जिले के लिए अलग आईजी होना चाहिए, जिससे यहां प्रॉपर सुपरविजन हो सके। इसे देखते हुए ऐसी व्यवस्था करने की बात कही जा रही है।

हालांकि इसे लेकर कुछ पुराने अफसरों का कहना है कि डीएम अवस्थी जब आईजी इंटेलिजेंस थे, तब भी उनके पास रायपुर रेंज की जिम्मेदारी थी। इसी तरह मुकेश गुप्ता भी आईटी इंटेलिजेंस के साथ रायपुर रेंज के आईजी की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। ऐसी चर्चा है गुप्ता को भी आईजी इंटेलिजेंस के साथ िसर्फ रायपुर रेंज में सिर्फ रायपुर जिले की ही जिम्मेदारी थी, बाकी जिलों की जिम्मेदारी तत्कालीन दुर्ग आईजी आरके विज के पास थी।

आईजी-डीआईजी बराबर

नई व्यवस्था के तहत एक डीआईजी के पास जो क्षेत्र है, वही आईजी के पास भी होगा। रायपुर एसएसपी प्रशांत अग्रवाल डीआईजी रैंक के हैं, उनके पास रायपुर जिले की जिम्मेदारी है। अजय यादव आईजी हैं। उनके पास भी आईजी के रूप में रायपुर जिले की जिम्मेदारी होगी। हालांकि उनके पास आईजी इंटेलिजेंस के रूप में पूरे छत्तीसगढ़ का कार्यक्षेत्र होगा।

दफ्तर और सेटअप कहां से

अजय यादव के पास आईजी इंटेलिजेंस के साथ रायपुर रेंज के आईजी (सिर्फ रायपुर जिला) की जिम्मेदारी होगी और आरिफ शेख के पास बाकी जिले होंगे। ऐसी स्थिति में भी यह सवाल उठ रहा है कि रायपुर आईजी कहां बैठेंगे और बलौदाबाजार भाठापारा, महासमुंद, धमतरी व गरियाबंद जिलों के आईजी कहां बैठेंगे। इनके लिए अलग सेटअप कहां से आएगा।

इलेक्शन मैनेजमेंट पर फोकस

चुनाव के दौरान रायपुर रेंज के आईजी के पास वीआईपी सुरक्षा, फोर्स के मूवमेंट की जिम्मेदारी होती है। विधानसभा और लोकसभा चुनाव के दौरान रायपुर आईजी को नोडल ऑफिसर बनाया जाता है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के साथ रायपुर आईजी चुनाव आयोग की प्रमुख बैठकों में शामिल होते हैं। यह भी एक वजह है कि अजय यादव को आईजी इंटेलिजेंस के साथ रायपुर के आईजी की जिम्मेदारी दी गई है। इससे पहले वे डीआईजी सिक्योरिटी के रूप में काम कर चुके हैं।

बहरहाल, रायपुर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने इसे शुरुआती प्रक्रिया माना जा रहा। हो सकता है, सरकार कुछ दिनों में इसका ऐलान कर दे। और अजय यादव रायपुर के पहले पुलिस कमिश्नर बन जाएं। 

https://npg.news/exclusive/cg-news-cg-me-police-commissionerate-intelligence-ig-ke-sath-raipur-ke-bhi-ig-honge-ajay-yadav-arif-dehat-ke-jile-dekhenge-1234870