Get all latest Chhattisgarh Hindi News in one Place. अगर आप छत्तीसगढ़ के सभी न्यूज़ को एक ही जगह पर पढ़ना चाहते है तो www.timesofchhattisgarh.com की वेबसाइट खोलिए.

समाचार लोड हो रहा है, कृपया प्रतीक्षा करें...
Disclaimer : timesofchhattisgarh.com का इस लेख के प्रकाशक के साथ ना कोई संबंध है और ना ही कोई समर्थन.
हमारे वेबसाइट पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है। किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं हैं।
जानी मानी नृत्य निर्देशक सरोज खान का निधन

मुबंई 03 जुलाई।सिनेमा जगत की जानी मानी नृत्‍य निर्देशक सरोज खान का आज सुबह दिल का दौरा पडने से निधन हो गया। वे 71 वर्ष की थीं।

सरोज खान को गत 17 जून को सांस लेने में कठिनाई की शिकायत के बाद बांद्रा के गुरूनानक अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। वे मधुमेह और अन्‍य संबंधित बीमारियों से पीडित थीं। उनकी कोरोना वायरस जांच नेगेटिव पाई गई थी।उनकी अंत्‍येष्टि मलाड स्थित कब्रिस्‍तान में कर दी गई।

सरोज खान ने चार दशक से अधिक समय तक दो हजार से अधिक गीतों के लिए नृत्‍य निर्देशन किया। उनका बचपन का नाम निर्मला था। विभाजन के बाद उनके माता-पिता भारत आए उन्‍होंने तीन वर्ष की उम्र में बाल कलाकार के रूप में नजराना फिल्‍म से अपने कैरियर की शुरूआत की। बाद में 1950 के दशक में उन्‍होंने नृत्‍य निर्देशक के रूप में काम किया। उन्‍होंने फिल्‍म कोरियोग्राफर बी. सोहन लाल से नृत्‍य का प्रशिक्षण लिया।

उन्‍होंने 1974 में बनी गीता मेरा नाम फिल्‍म में स्‍वतंत्र कोरियोग्राफर के रूप में काम किया। लेकिन तीन बार राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार जीतने वाली इस नृत्‍य निर्देशक को प्रसिद्धि के लिए वर्षों इंतजार करना पडा। उन्‍होंने श्रीदेवी के साथ काम किया। 1987 में बनी मिस्‍टर इंडिया में हवाहवाई गीत और 1986 में नगीना, 1989 में चांदनी जैसी फिल्‍मों और 1988 में माधुरी दीक्षित के साथ तेजाब फिल्‍म के सुपरहिट गीत एक-दो-तीन से उन्‍हें ख्‍याति प्राप्‍त हुई।

https://www.cgnews.in/2020/07/03/%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%80-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%80-%E0%A4%A8%E0%A5%83%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%AF-%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B6/