Get all latest Chhattisgarh Hindi News in one Place. अगर आप छत्तीसगढ़ के सभी न्यूज़ को एक ही जगह पर पढ़ना चाहते है तो www.timesofchhattisgarh.com की वेबसाइट खोलिए.

समाचार लोड हो रहा है, कृपया प्रतीक्षा करें...
Disclaimer : timesofchhattisgarh.com का इस लेख के प्रकाशक के साथ ना कोई संबंध है और ना ही कोई समर्थन.
हमारे वेबसाइट पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है। किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं हैं।
Farmer Protest: किसानों का बड़ा फैसला, प्रदर्शन के 57 वें दिन ये किसान करेंगे भूखहड़ताल, निकाली रैली

रायपुर। (Farmer Protest) केन्द्र सरकार द्वारा लाये गए कॉरपोरेट परस्त किसान, कृषि और आम उपभोक्ता विरोधी कानून को रद्द करने व न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी कानून लागू करने की मांग को लेकर दिल्ली के विभिन्न सीमाओं में जारी किसान आंदोलन के समर्थन में छत्तीसगढ़ से गये किसानों के जत्थे ने सिंघु बार्डर में रैली निकालकर प्रदर्शन किया।

Dhamtari: दो पक्षों के बीच हुई मारपीट..समझाइश देने पहुंचा आरक्षक पर हुआ उल्टा हमला.. बुरी तरह घायल..मगर चार दिन बाद हुआ एफआईआर..आखिर क्यों

(Farmer Protest) रैली की अगुवानी अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के सचिव व छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के संचालक मंडल सदस्य तेजराम विद्रोही, अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा छत्तीसगढ़ के उपाध्यक्ष मदन लाल साहू, (Farmer Protest) आदिवासी भारत महासभा के संयोजक सौरा यादव, क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच के संयोजक तुहीन देब, क्रांतिकारी विद्यार्थी संगठन के संयोजक टिकेश कुमार, प्रमोद कुमार,  क्रांतिकारी नौजवान भारत सभा के वेणुगोपाल, क्रांतिकारी महिला संगठन के उपाध्यक्ष उर्मिला, सामाजिक कार्यकर्ता राधेश्याम शर्मा ने किया।

Bilaspur: जावेद मेमन होंगे नए ब्लाक अध्यक्ष,आज से नियुक्ति, विधायक के साथ हुए विवाद के बाद तैय्यब हुसैन निष्कासित

रैली पश्चात सभा को संबोधित करते हुए आदिवासी भारत महासभा के संयोजक सौरा यादव ने कहा कि देश के अन्नदाताओ के सँघर्ष को दो माह पूरे होने जा रही है अब तक 131 किसान शहीद हो चुके हैं, किसानों का मांग बहुत ही स्पष्ट है,तीन कृषि कानून की वापसी एंव एम एस पी पर कानून बनाना।  केंद्र की मोदी सरकार ने कंगारु अदालत का सहारा लिया ,अब राष्ट्र की सुरक्षा की आड़ मे सैकडो किसान नेताओ पर एन आई ए लगाकर अपना तानाशाही दमन शुरू किया है, मुर्ख तानाशाहो को दुनिया एंव भारत का किसान आंदोलनों का इतिहास को पढ़ना चाहिए।

https://khabar36.com/farmer-protest-big-decision-of-farmers/